Love my Nation, Wary of Republic

I love my nation but of the Republic i am wary. Secular its written, but actions and laws contrary. Civil liberties suspended during emergency To which the Supreme Court approved Was this the promise of democracy that the Republic got us moved ? We are one Nation indeed! But the Republic needs to introspect. If ConstituentsContinue reading “Love my Nation, Wary of Republic”

An Ode to Childhood – बचपन मेरा बना रहे

पैरों मैं पंख लिए  जब,  दौड़े चले वह नन्हे पगनैना देख पुलकित होए, सुन्दर बने उनसे यह जग ज़मीं पर टिके न टिकाये, वह नन्हे पैरों के दौड़ते निशाँचंचल पग को चूमना चाहें, इस व्याकुल धरती की प्यासी जाँ  बचपन के यादों से लदे, तह दिल से दुआ करता हूँ बचपन मेरा बना रहे, दुआ रबContinue reading “An Ode to Childhood – बचपन मेरा बना रहे”